सिटी बैंक पर लगा 4 करोड़ का जुरमाना

भारतीय रिज़र्व बैंक ने देश के एक और बड़े बैंक पर जुररमाना लगाया है। दरअसल रिज़र्व बैंक ने सिटी बैंक पर शुक्रवार को करेंट अकाउंट खोलने में NOC के नियम का पालन नहीं करने पर जुरमाना लगाया है।

सिटी बैंक पर जुरमाना क रूप में 4 करोड़ रुपये लगाया गया है। रिज़र्व बैंक के बयान के मुताबिक ग्राहकों के तरफ से जानकारी लेने के वक्त नियमो में लापरबाही बरतने पर सिटी बैंक पर ये जुरमाना लगाया गया है। सिटी बैंक ने करंट आकउंट खोलने के वक्त ग्राहक से दूसरे बैंक से क्रेडिट सुबिधा लेने में लापरवाही बरतने का आरोप लगा है। इसके अलावा NOC और रिस्क असिस्टमेन्ट फाइंडिंग के नियमो का पालन नहीं किया गया। इससे पहले सिटी बैंक को नियमो का पालन नहीं करने पर कारन बताओ नोटिस भी जारी किया गया था।

आपको बता दे की देश में ये पहला मामला नहीं है जिनपर जुरमाना लगाया गया है। रिज़र्व बैंक ने भारत को-ऑपरेटिव बैंक पर भी 60 लाख का जुरमाना लगाया था। साथ ही तजसप सहकारी बैंक पर भी 45 लाख का जुरमाना लगाया था. वही नागर अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक पर भी 40 लाख रुपये का जुरमाना लगाया जा चूका है।

इसके अलावा अगर बात करे बाजार नियमावली सेवी की तो सेवी ने दीवान हाउसिंग फाइनेंसिंग लिमिटेड(DHFL) और 14 वयक्तियों पर 14 लाख का जुरमाना लगाया है। स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) के ओर से जारी बयान में कहा गया है की DHFL की ओर से NCD जारी करते समय बाजार की शतों का पालन नहीं किया जिसके कारन सेवी ने 20 लाख रुपये का जुरमाना लगाया था। वही गैलेन्ट इस्पात लिमिटेड के शेयरों में ट्रेडिंग के दौरान फ्रॉड करने के आरोप में सेवी ने 28 लाख का जुरमाना लगा चका है इन सभी लोगो ने अप्रैल 2014 से दिसंबर 2014 के बीच शेयर ट्रेडिंग में फ्रॉड किया था।

देश में ग्राहकों का पैसा सुरछित रहे इसके लिए रिज़र्व बैंक लगातार सभी बैंकों पर कड़ी नज़र बनाये रखता है !

Leave a Reply