क्या लॉकडाउन 5.0 आने वाला है

अभी तक पुरे देश में सभी के दिल में एक ही सवाल उठ रहा है। की क्या एक बार फिर से लॉकडाउन का सामना करना पड़ सकता है और अगर ऐसा हुआ तो पावंदी का दायरा कितना रहेगा। छूट मिलेगी तो कितनी मिलेगी और सबसे अहम् सवाल किन किन इलाकों में मिलेगी।

अभी तक देश में डेढ़ लाख से जयादा कोरोना केश सामने आ चुके है। बढ़ते हुए मरीजों के बिच में ही सरकार ने कुछ छूट दे कर लोगो को रहत देने की कोसिस की थी। लेकिन लॉकडाउन चार के ख़त्म होने के चार दिन पहले ही एक बार फिर लॉकडाउन 5.0 की आहट सुनाई देने लगी है। आपको बता दे की 31 मई को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी, मन की बात करेंगें, और इसी मन की बात में प्रधान मंत्री बहुत कुछ साफ़ कर सकते है। सूत्रों की माने तो लगभग २ हफ्ते के लिए लॉकडाउन बढ़ाना तै मन जा रहा है।

सरकार लोगो की जयादा छूट दे कर लोगों की जिंदगी और अर्थवयवस्था को पटरी पर लाने की कोसिस कर रही है। लेकिन खबर है की कोरोना की जयादा मार सह रहे इलाके को जयादा राहत नहीं दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक लॉकडाउन 5.0 में 11 शहरों पर पूरी नज़र और कोई छूट नहीं दी जाएगी। ये वो शहर है जहा कोरोना का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है। आइये आपको बताते है की किन शहरों में पावंदी जारी रह सकती है.

ये शहर है,
दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, पुणे, ठाणे, इंदौर, चेन्नई, अहमदाबाद, जयपुर, सूरत और कोलकाता। ये वो इलाके है जहा कोरोना वायरस से गजब का तांडव मचा हुआ है। और यहाँ मरीजों की संख्या हर रोज बढ़ती जा रही है हर रोज कोरोना का अकड़ा बढ़ता जा रहा है। अंदाजा इसी से लगाइये की इन 11 शहरों में भारत के कुल कोरोना मरीज के 70 फीसदी मामले मिले है। जबकि अहमदावाद, दिल्ली, मुंबई, पुणे और कोलकाता में ये और जयादा खतरनाक है और यहाँ देश के कुल मरीजों के 60 फीसदी पाए गए है। यही वजह है की सरकार लॉकडाउन 5.0 के बारे में सोच रही है। और ऐसा होता है तो लॉकडाउन 5.0 में सरकार इन इलाको में सख्ती बरकारार रखेगी और सिर्फ कन्टेनमेंट जोन को छोड़ कर बाकी इलाकों में कुछ शर्तों के साथ छूट दी जाएगी।

खबर ये भी है की लॉकडाउन 5.0 में जिम और धार्मिक अस्थल भी खोले जा सकते है.लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल भी रखना होगा। धीरे-धीरे जिंदगी पटरी पर आ रही है लेकिन लगता है अब कोरोना के साथ ही जिंदगी बितानी पड़ेगी और अब हमेसा के लिए सरकार के गाइड लाइन के अनुसार ही चलना होगा।

Leave a Reply