कोरोना पर ब्रिटेन का चौकाने वाला दावा, पढ़िए पूरी खबर

ब्रिटेन ने दाबा किया है कोरोना के सबसे गंभीर मरीजों के लिए ये दवाई बेहद असरदार है। इस दवा के बारे में सबसे खास बात और सबसे अच्छी बात ये है की इस दवा का खर्च एक गरीब भी आराम से उठा सकता है। और इसका अगर डिस्ट्रीब्यूशन हुआ तो और आसान हो जायेगा।

डेक्सामेथासोन, यही वो दवा है जिसके बारे ये दावा है की कोरोना से मर रहे मरीज को बचाया जा सकता है ये दावा अहम् है क्यों की अब तक कोरोना के इलयाज की कोई निर्णायक दवा नहीं मानी गई है। कई देश कई दवाओं का इस्तेमाल बीमारी के लक्छन के आधार पर कर रहे है। पर ब्रिटेन में दावा के दावों पर ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में शोध हुआ और 2104 मरीजों पर ये दवा दी गई और 4 हफ्ते बाद इस दवा के नतीजों पर गौर किया गया की जो मरीज वेंटिलेटर पर थे और जिन्हे सांस लेने में तकलीफ थी। उन्हें इस दवा ने ठीक कर दिया। इस दवा से कोरोना मरने की सम्भाबना 35% तक काम हो गई।

ये दवा ब्रिटेन के एक शोधकर्ता ने बताई जिनका नाम है (डॉक्टर मार्टिन लैंडर, ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ) ये बताते है की “इस दवा डेक्सामेथासोन ने सांस लेने वाली मशीनों, वेंटिलेटर पर रहने वाले लोगों के लिए लगभग एक तिहाई तक मरने के जोखिम को कम कर दिया।

डेक्सामेथासोन जो 1960 के दसक से गठिया और स्थामा के इलयाज में होने वाली दवा है। सबसे खास बात ये की ये दवा आसानी से और सस्ती दर पर उपलब्ध है। (डॉक्टर सर पैट्रिक वालंस जो मुख्य बैज्ञानिक सलाहकार है ब्रिटेन के ) उन्होंने बताया की डेक्सामेथासोन सस्ती दवा है और व्यापक रूप से भी उपलब्ध है। जहा तक इस अध्यन के बारे में बताये तो वास्तव में रोमांचक बात यह है की यह काम करता है, और इसका मतलब या है की या दुनिया भर में काम करेगा।

साथ ही ब्रिटेन के प्रधान मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा की ये दवा दुनिया में कोरोना की नहीं उम्मीद है।

Leave a Reply