आर्डर मी के साथ बाबा रामदेव कूदे ऑनलाइन फ्लिपकार्ट और अमेज़न को टक्कर देने के लिए।

मोदी सरकार देश को आत्मनिर्भर बनाना चाहती है। इसलिए सरकार जोर देते रहती है को लोग विदेशी छोड़ स्वदेशी अपनाएं। इसे न केवल देश का विकाश होगा वल्कि देश भी आत्मनिर्भर बनेंगें और देश के ही लोगो को वयापार के साथ रोजगार मिलेगा।जिसमे बाबा रामदेव भी कूद पड़े है अपने वेबसाइट आर्डर मी के साथ.

इस समय दुनिया एक ऐसे संकट से गुजर रही है जहा लोगो को एक दूसरे से दुरी बना के रहना पड रहा है। और हो सकता है लोगो को ये आपसी दुरी हमेसा के लिए या लम्बे वक्त के लिए दुरी बना के रहना पड़े. लेकिन इंसान तो एक सामाजिक प्राणी है। बिना एक दूसरे से मिले हुए तो लोग एक सामान तक है खरीदते, अगर इसी प्रकार दूरियां बनाये रखनी पड़ी तो समाज को एक नया रूप लेना पड़ेगा। जैसे पास की दुकान के वजाये ऑनलाइन शॉपिंग करना। शयद इसीलिए ऑनलाइन बाजार में हर वयापारी अपना हाथ आजमा रहा है। अब आप बाबा रामदेव को ही देख लीजिये बाबा रामदेव मेक इन इंडिया को आगे बढ़ने के लिए इ-कॉमर्स साइट लाने की तैयारी कर रहे है जिसका नाम आर्डर मी है। आर्डर मी नाम के इस वेबसाइट पर पतंजलि के अलावा देशी उत्पादों बेचा जायेगा। सबसे बड़ी बात ये है की इस वेबसाइट पर बिकने वाली प्रोडक्ट की डिलीवरी फ्री होगी।

बाबा रामदेव के तरफ से ये ऐलान ऐसे वक्त पर किया गया है जब प्रधान मंत्री ने लोकल के लिए भोकल की बात कही है। आपकी जानकारी के लिए बता दे बाबा रामदेव की ये इ-कॉमर्स वेबसाइट अगले १५ दिनों में दस्तक दे सकती है। कंपनी का दावा है की इस वेबसाइट पर प्रोडक्ट की आर्डर होने पर डिलीवरी होने में कुछ ही घंटों का समय लगेगा। आचार्य बालकृष्ण के मुताबिक आर्डर मी केवल स्वदेसी उत्पादों की बिक्री करेगा बिदेशी प्रोडक्ट की नहीं, इतना ही नहीं इस वेबसाइट पर केवल उत्पादों की बिक्री ही नहीं वल्कि पतंजलि के १५०० से जयादा डॉक्टर मुफ्त सलाह देने के लिए भी उपलब्ध होंगें। यानि अगर आप किसी आयुर्बेदिक डॉक्टर की सलाह लेना चाहते है तो आप मुफ्त में ले सकते है साथ इस इस वेबसाइट पर योग सम्बन्धी सलाह भी मिलेगी।

अब जाहिर सी बात है की लोग केवल वेबसाइट पर ही नहीं वल्कि एप्लीकेशन पर भी यूज करना चाहेंगे तो आपको बता दें की आर्डर मी का एप्लीकेशन भी ऐप स्टोर पर उपलब्ध रहेगा और ये एप्लीकेशन एंड्राइड और आई ओ एस दोनों के लिए उपलब्ध रहेगा। साथ ही पतंजलि के इस ऐप पर एम् ऐस एम् ई सेक्टर भी जुड़ सकेंगें। यानि आने वाले समय में इ-कॉमर्स दुकानदार बढ़ने वाले है। इसके साथ ही कॉम्पीटश भी बढ़ेगा। अब इस जंग में देखने वाली बात ये होगी की कौन किस पर हाबी होता है क्यूंकि या देशी प्लेटफॉर्म भी तैयार है और विदेशी भी।

This Post Has 6 Comments

  1. Vernonhag

    [url=https://kwork.ru/links/1017228/progon-khrumerom]Заказать прогон хрумером[/url]

  2. ChloeDiurn

    نيك عربي
    سكس مباشر
    سكس مشاهير
    [url=https://sexjk.com/Щ…Щ†ШІЩ„ЩЉ-Ш§ШЄШґ-ШЇЩЉ-Ш№Ш±ШЁЩЉ-Щ…Ш¬Ш§Щ†ЩЉ]ШіЩѓШі Щ…Ш¬Ш§Щ†Щ‰[/url]
    سكس نسوانجي
    سكس كرتون

  3. aresgrb.se

    Peculiar article, totally what I was looking for.

Leave a Reply