सुन्दर पिचाई को ही क्यों गूगल ने ग्लोबल सीओ बनाया ये है कारन

गूगल इस वक्त वैल्यू के हिसाब से दुनिया का सबसे महंगा ब्रांड है और आप इसके सीओ का नाम तो जानते ही होंगे जिनके बारे में आज मै आपको बताने वाला भी हूँ. आपको बता दे की इस वक्त सुन्दर पिचाई सबसे जयादा सैलरी पाने वाले में से एक है गूगल इनको रोजाना साढ़े तीन करोड़ रुपये अदा करता है.

सुन्दर पिचाई का नाता इंडिया से ही है जो की तमिलनाडु से बिलोंग करते है सुन्दर पिचाई के फादर आर्म्स इंजिनियर थे और इनकी माँ ऑस्टेनोग्राफर थे, ये दो कमरें के फलते में जन्मे और यही रहते भी थे और इन्होने एक आम से स्कूल से अपनी पढाई पूरी की और इनकी उम्र इस वक्त सैंतालिश साल की है और इनको बैयलिश साल के उम्र में गूगल ने ग्लोबल सीओ बनाया था.

आखिर कार ये सख्श इतनी उचाई तक कैसे पंहुचा ?
ये एक दिलचस्प कहानी है आइये आपको बताते है, wakiya ये है की जब सुन्दर पिचाई की इंटरव्यू गूगल के बोर्ड के सदस्यों ने लिया तो उनसे सिर्फ एक ही सवाल पूछा और उस सबल का जबाब देने के लिए सुन्दर पिचाई को पैतीस मिनिट्स दिए गए, सवाल ये था, की आपके जिंदगी का सबसे बड़ा फेलुअर क्या था, और आप इससे बहार कैसे निकले थे ?

और सुन्दर पिचाई ने जो जबाब दिया वो सब को चौका दिया उन्होंने कहा की मेरी सबसे बड़ी फेलुअर मेरी मेहनत थी उन्होंने कहा मै गरीब खानदान में पैदा हुआ और मेरे पास सिर्फ दो कमरे थे, मै नलके से पानी भर क लता था और मरे मा और बाप दोनों मेहनत करते थे तो मेरी दो वक्त की रोटी पूरी होती थी, और इस घुरवात ने मुझे सख्त मेहनती बना दिया था और सख्त मेहनती लोग दुनिया में किसी पे बिश्वाश नहीं करते ये सारा काम खुद करना चाहते है और करने की कोसिस करते है इनकी ये बस इनकी ये कमी उनकी ग्रोथ रोक देती है जबकि मैंने हंसुस किया है की अगर किसी को कामयाबी चाहिए तो एक अच्छी टीम उनके पास जरुरी होती है सुन्दर पिचाई ने बताया की मै सख्त मेहनती होने के कारण टीम बनाने में पीछे रह गया था इसी कारण मै फेलुअर हुआ और जब मुझे लगा की अब बिना टीम के ग्रोथ नहीं हो सकता तो मैंने अपनी टीम बनानी सुरु की और उस फेलुअर से बहार निकल आया, ये जबाब सुनते ही गूगल बोर्ड के सदाशियों ने ताली बजाई और सुन्दर पिचाई को दुनिया का सबसे बड़ा ब्रांड के सीओ बना दिया .

आपको ये जानकी कैसा लगा, अच्छा लगा हो तो शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *