मोदी से पहले जबाहरलाल नेहरू ने सरदार बलभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण किया था वो भी उनके जीवित रहते जरूर पढ़ें

स्टैच्चू ऑफ़ यूनिटी बन के तैयार है और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने इस मूर्ति का अनावरण भी कर दिया है और आपको तो पता ही होगा की इस मूर्ति को बनाने में कितना खर्च आया है अगर नहीं मालूम तो आप यहाँ क्लिक कर के मालूम कर सकते है, खैर आगे बढ़ते है। जबसे मूर्ति बनना स्टार्ट हुआ है तब से इससे मानाने बाले भी है और बहुत सारे कोसने वाले भी है सभी कोसने वाले को छोड़ दे तो मुख्या रूप से कोसने वाले खुद प्रधान मंत्री मोदी ही है

बिहार से सभी भुत भाग गया है ये कहना है बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार का आप भी पढ़िए

जो कांग्रेस और पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को कोशने का कोई मौका नहीं छोड़ते, अब ये तो हम सब को पता चल ही गया है को ये मूर्ति सबसे ऊँची है लेकिन इस मूर्ति से भी पहले पटेल की एक मूर्ति का अनावरण खुद नेहरू ने किया था वो भी उनके जीतेजी, जी हां ये हम नहीं वल्कि एक अखवार की कटिंग कह रही है इस अखवार में लिखा है की, (सरदार पटेल की पहली प्रतिमा उनके उपप्रधानमंत्री रहते 1949 में गोधरा में की है थी जिसका अनावरण प्रधान मंत्री नेहरू ने 22 फरारी 1949 को किया था इस अखवार के अनुसार पटेल की गाँधी से पहली मुलाकात गोधरा में 1917 में ही हुई थी, जिसके बाद वो स्वंतत्रा आंदोलन में कूद पड़े थे इससे पहले उन्होंने यही वकालत की थी इस अखवार ने एक फोटो भी पोस्ट किया है जिसमे नेहरू पटेल की प्रतिमा के आवरण के मौके पर मोरारजी देसाई से बात करते दिख रहे है। जबकि सरदार पटेल की जीबनि से पता चलता है की वो 1950 तक ही उपप्रधानमंत्री थे जिसके बाद उनकी मृत्यु हो गई थी। और इस अखवार का नाम इलूस्ट्रेट वीकली ऑफ़ इंडिया है जो की उस समय की प्रतिष्ठित अखवार थी। तो यहाँ पर प्रधान मंत्री मोदी का दबा धाराशाही हो जाता है जिसमे मोदी ने कहा की जबाहर लाल नेहरू ने या कांग्रेस ने अपने नेता की क़द्र नहीं किया।

Photo by Google

आपको ये जानकारी कैसी लगी कमेंट जरूर करे हमें आपके कमेंट का इंतजार रहता है और अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो आप अपने दोस्तों के साथ जरुरु शेयर करें धन्याबाद !

%d bloggers like this: