Mon. Jul 22nd, 2019

Esabnews.com

Only For You

भारत में इन शहरों को अगले साल 5जी की मिलने लगेंगी सुबिधा

1 min read

आने वाला समय 5 जी का है यानि मोबाइल नेटवर्क का 5 जेनरेसन और ये पहले के मोबाइल नेटवर्क से बिलकुल अलग है, ओने जी ने हमें एनालॉग फ़ोन दिए ता की हम एक दूसरे को फ़ोन कर सके 2 जी के आने मैसेज भेजना और वौइस् रिकॉर्ड करना आसान हो गया 3 जी ने मोबाइल ब्रॉडबैंड और इंटरनेट इस्तेमाल करना आसान किया, वही 4 जी आने से इन सब में एक अलग ही चेंज आगया और इन सब चीजे और जयादा फ़ास्ट इस्तेमाल करना सीखा गया, लेकिन अगर 5जी की बात करें तो ये इन सब से बिलकुल अलग है मानो मशीन एक दूसरे से बाते करने लगे साथ ही आप से भी बातें करें लेकिन ये मुमकिन करने के लिए हमें कई एंटीना लगाने होंगें, या हर जगह एंटीना लगाने होंगें, ऐसा इस्सलिये की एक साथ कई डिवाइस आपस में कनेक्ट होने के लिए तैयार है जो आपस में बातें कर सके एक दूसरे से ताल मेल बैठा सके,

ये खुद फैसले ले सके और हमारी जिंदगी और आसान बना सके इतने जयादा काम की शायद आप सोच भी नहीं पाते है, जैसे ये आपको आपके घर की बिजली खपत करने में कण्ट्रोल कर सके, फ्रीज़ को ये आर्डर कर सके की आपके लिए सब्जियां कब आर्डर करने है और कितनी करनी है या कहे की आपके पास अभी जितनी मशीन है वो अपना काम खुद ही समझ कर कर सके, यानि जब मशीने ऐसी हो जाएँगी तो इंसानो के काम नियमित तरीको से होने लगेंगी, सड़क पर चलते समय आपकी गाड़ी आस पास के सभी सेंसर से कनेक्ट रहेंगे, और ट्रैफिक लाइट भी काफी दूर से कनेक्ट हो जाएँगी जिसे आप देख भी नहीं सकते है सबकुछ आटोमेटिक हो जायेगा

Live Score Of World Cup

5जी आपके डिवाइस को काफी तेज कनेक्टिविटी देगा, लेकिन कनेक्टिविटी के साथ साथ अस्थिरता भी जरुरी है क्युकी ये डिविसेस अलग अलग एंटीना से कँनेट भी होते रहेंगे तब जब आप तेजी से मूव कर रहे होंगें. लेकिन कितनी स्पीड तक ये कनेक्शन स्टेबल रह सकती है, बलुवायर नाम की कंपनी टेस्ट कर रही की क्या आप किसी स्पीड ट्रैन में बैठे है तो आपका नेटवर्क या कनेक्शन काम कर रहा है या क्या यह एक सुपर फ़ास्ट इंटरनेट दे सकता है ? ये एक्सपेरिमेंट दुनिया भर में की जा रही है,

अमेरिका में बेरोजोल नाम की कंपनी कुछ शहरों में ऐसी तकनीक का ट्रायल कर रही है ये ट्रायल बहुत छोटे एरिया में की जा रही है नेटवर्क की स्पीड तो बहुत अच्छी है पर कंपनी को शुरुआत में कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ा है, उम्मीद की जा रही की ५ जी की सेबा पाने में दक्छिन कोरिया और चीन का शहर सबसे आगे होंगें .

निष्कर्ष
आपको ये आर्टिकल कैसा लगा अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर करें अगर आपको कुछ कहना होतो आप कमेंट करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *